सामाजिक कुरीतियाँ और नारी , उसके सम्बन्ध , उसकी मजबूरियां उसका शोषण , इससब विषयों पर कविता

Thursday, July 17, 2008

एक संवाद

अनैतिकता बोली नैतिकता से
क्यो इतना इतराती हो
मेरे प्रेमी के साथ रहती हो
और पति है वह तुम्हारा
बार बार मुझे ही समझाती हो
कभी मेरी तरह अकेले रह कर देखो
अपने सब काम खुद करके देखो
पुरुष को प्यार सिर्फ और सिर्फ
उसके प्यार के लिए कर के देखो
सामाजिक सुरक्षा कवच
पुरुष को तुम बनाती है
समाज मे अनैतिकता

तो तुम भी फेलाती हो
फिर बार बार
नैतिकता का पाठ
मुझे ही क्यो पढाती हो ??

© 2008-09 सर्वाधिकार सुरक्षित!

3 comments:

रश्मि प्रभा said...

good one

दिनेशराय द्विवेदी said...

जीवन का यह भी एक पहलू है। इस आवाज का अपना भी एक रंग है। लगता है, विवाह को ही एक चुनौती है।

Manvinder said...

अनैतिकता बोली नैतिकता से
क्यो इतना इतराती हो
मेरे प्रेमी के साथ रहती हो
और पति है वह तुम्हारा
बार बार मुझे ही समझाती हो
agar pati or premi kd kad taya ho jae to netikta or anetikta nahi tikegi