सामाजिक कुरीतियाँ और नारी , उसके सम्बन्ध , उसकी मजबूरियां उसका शोषण , इससब विषयों पर कविता

Thursday, May 29, 2008

आज भी मै अपने को ढ़ूढ़ती हूँ

आज भी मै अपने को ढ़ूढ़ती हूँ भाग १

पढ़ लिख कर नौकरी की
आज्ञाकारी पुत्री बन कर विवाह किया
आज्ञाकारी पुत्रवधू बन कर वंशज दिया
और अब सहिष्णु पत्नी बनकर
पति की गलतीयों पर पर्दा डालती हूँ
मै खुद क्या हूँ , मेरा अस्तित्व क्या है
आज भी मै अपने को ढ़ूढ़ती हूँ
______________________

आज भी मै अपने को ढ़ूढ़ती हूँ -- भाग 2
पढ़ लिख कर नौकरी की
आज्ञाकारी पुत्री बन कर विवाह किया
आज्ञाकारी पुत्रवधू बन कर वंशज दिया
और अब सहिष्णु पत्नी बनकर
पति की गलतीयों पर पर्दा डालती हूँ
मै खुद क्या हूँ , मेरा अस्तित्व क्या है
आज भी मै अपने को ढ़ूढ़ती हूँ
_____________________________

एका एक आईना दिखा मुझे
और आज्ञाकारी पुत्री का चोला पहने
दिखी एक लड़की जिसने अपनी शादी मे
लाखो खर्च करवाये अपने पिता के
जिसने पाया एक पति ,पिता के कमाए हुये धन से
और आज्ञाकारी पुत्रवधू का चोला पहने दिखी एक औरत ,
जिसने ससुर के पैसे से मकान अपना ख़रीदा ,
अपने मकान को, घर पति के
माता पिता का ना बनने दिया
और सहिष्णु पत्नी का चोला पहने दिखी
एक विवाहिता , जिसने अपने पति को
हमेशा ही एक सामाजिक सुरक्षा कवच समझा
___________________________________

इससे पहले कि आइना और कुछ दिखता
मेरी महानता का आवरण और उतरता
कोई देख पता कि मै भी केवल एक साधारण स्त्री हूँ
जो केवल अपने स्वार्थ के लिये जीती है
मैने आइने पर फिर एक पर्दा डाला
___________________________________

दो चुटकी सिंदूर माँग मे भरा
ससुर के पैर छुये
पिता को कुशलता का समाचार दिया
और पति के साथ उसकी लंबी कार मे
बेठ कर दूसरा या तीसरा हनीमून मनाने
मै चल पडी ।
पति के पर - स्त्री गमन को
वासना कह कर , पुनेह उससे संबंध बनाने के
निकृष्टतम समझोते को करने
ताकि ऐशोआराम से बाक़ी जिन्दगी
अपनी महानता का गुणगान करते
सुनते बीते

© 2008-09 सर्वाधिकार सुरक्षित!

4 comments:

scam24in hindi said...

i read this poem
i am wanted to say only that
ki
HAR NARI APNE AAP MEIN KAVEETA NA HOKAR MAHAKAVYA HAI kya likha jay aur kya padha jay bas jaroorat is baat ki hai ki use jitna ho sake samjha jay
scam24inhindi.blogspot.com

बाल किशन said...

एक अच्छी और सादी कविता.
पर कई सच्चाइयां बयां करती है.
आभार.

रंजू ranju said...

मै खुद क्या हूँ , मेरा अस्तित्व क्या है
आज भी मै अपने को ढ़ूढ़ती हूँ

तलाश अभी जारी है नारी की ..सही बात लिखी....सरल लफ्जों में सचाई को बयान करती यह रचना अच्छी लगी
क्यूंकि अभी चाहे कितना कुछ बदल ले ..पर सच अभी भी यही है ..लिखती रहे

मीनाक्षी said...

scam24in hindi ne jo kaha sahi kaha...aapki kavita bhi naari par likhi ek kavita na hokar mahakavya ke kayee bhagoin ko bayan karti hain aur kayee bhaag aur bhi ho saktain hain.
apne vajood ki talash to taaumr rehti hain.