सामाजिक कुरीतियाँ और नारी , उसके सम्बन्ध , उसकी मजबूरियां उसका शोषण , इससब विषयों पर कविता

Wednesday, August 6, 2008

गांधारी की पीड़ा

क्यूँ नहीं कोई समझा मेरी पीड़ा
जब मैने आँख पर पट्टी बाँध कर
किया था विवाह एक अंधे से ।
पति प्रेम कह कर मेरे विद्रोह को
समाज ने इतिहास मे दर्ज किया ।
और सच कहूँ आज भी इस बात का
मुझे मलाल हैं कि ,
मेरी आँखों की पट्टी का इतिहास गवाह हैं
पर
ये सब भूल गए कि

मैने विद्रोह का पहला बिगुल बजाया था
बेमेल विवाह के विरोध मे ।
मेरी थी वो पहली आवाज
जिसको दबाया गया
और इतिहास मे , मुझे जो मै नहीं थी
वो दिखाया गया ।

© 2008-09 सर्वाधिकार सुरक्षित!

7 comments:

seema gupta said...

क्यूँ नहीं कोई समझा मेरी पीड़ा
जब मैने आँख पर पट्टी बाँध कर
किया था विवाह एक अंधे से ।
" really interesting"

सुजाता said...
This comment has been removed by the author.
सुजाता said...

महाभारत का यह गान्धारी पाठ ज़रूरी है इस दृष्टि से भी कि सत्य का जो चेहरा हम देखते हैं उसके कुछ अन्देखे पहलू जानबूझ कर इतिहास मे दबा दिये जाते हैं ।

anitakumar said...

सच कहा आप ने गांधारी ने सबसे पहले विद्रोह का बिगुल बजाया था लेकिन ये विद्रोह किसको दिखाया था, अपने मां बाप को जो विदा कर चुके थे या अपने अंधे पति को जो वैसे ही विद्रोह देख नही सकता था। अगर ये विद्रोह थोड़ा और आगे बड़ाया होता और दूसरी स्त्री के साथ होते अन्याय के खिलाफ़ पुरजोर आवाज उठायी होती तो आज इतिहास में आम रानी की मानिंद पड़ी न होती।

Kavi Kulwant said...

Maha bharat to ek aisa granth hai.. jisme zindagi ka har choota unchoota pahlu hai... balki yeh aisa granth hai.. zisme zindagi ki ek se badh kar ek gahari sachhaiyan hain.. Isme se kai to hum logon ne aaz tak feel bhi nahi ki hain..lekin phir bhi woh sachhiyan hain..
Hamaare dekhane ke drishtikon alag alag hote hai.., samay, desh, smaaj ke hisaab se alag alag drishtikon paida hote hain.. .
Aap ne bhi ek naya drishtikon diya hai.. Gandhari ke charitra ko..
Aap ka aakrosh dekh kar lagta hai.. aap me to woh sambhavnaaye hain..
ki aap duniyan badal den..
kitna purana vishay.. hai.. lekin is angle se kisi ne bhi soch kar kuch nahi likha..
Aap ki soch niraali hai..
mera NAMAN sweekaren..

Kavi Kulwant said...

Anyaya aaz bhi hota hai..
Anekon jagah hota hai...
Sabse pahle aur sabse zyada anyay pita ke ghar hi hota hai..
Zis ladaki par pita ke ghar equality aur nyaya milta hai.. use sasuraal me bhi nyaya milta hai..
Zis ladki ko pita ke ghar dab kar rahna sikhaya zata hai.. use hi saauraal yan pati ke ghar anyaya sahna padta hai..
Hum apni betiyon ko kyon nahi KIRAN BEDI banate hain..
phir anyaya hone ka sawaal hi nahi hota...

Kavi Kulwant said...

Dahej ke naam par hum chikhate hain.. galat hai, pratdana hoti hai.. hum kanoon banate hain..
Lekin ek doosra kanoon hai.. ladki ko pita ki property me hissa.. is kanoon ka kitna palan hota hai..tab koi kyun nahi chikhta..???????
Kitni ladkiyon ko hissa milta hai..0.00001% yan usase bhi kam..
Agar is doosre kanoon ka palan kiya zaye..(let Govt. assure it in every household).. Dahej ki bimaari apne aap khatam ho zaayegi..
hai kisi me himmat?????????