सामाजिक कुरीतियाँ और नारी , उसके सम्बन्ध , उसकी मजबूरियां उसका शोषण , इससब विषयों पर कविता

Sunday, March 6, 2011

जय हो ! [भाग-१ ]

८ मार्च को हम सभी ''अंतर-राष्ट्रीय महिला दिवस '' मनातें है .आज ब्लॉग -जगत में हमारी महिला चिठ्ठाकार जिस प्रकार से अपनी लेखन क्षमता का परिचय देते हुए अपना लोहा मनवा रही हैं
-उसकी तारीफ में बस एक ही भाव मन में उमड़ आता है -''जय हो ''.

इसी भाव को लेकर मैंने यह पोस्ट तैयार की है
आशा है आप सभी इसकी दिल से सराहना करेंगे .----


''आओ करें ''vandana ''
हम उस ''devi'' की ;

''जिसकी ''nutan'' दीप
''shikha'' ने जग चमकाया ,

''mamta''मय''''preeti''मय
प्रभु की इस ''rachna'' ने ;

अपनी अद्भुत ''pratibha'' का लोहा मनवाया .''
''sharad'' 'shashi' की 'rashmi' से शीतलता फैली ;
'poonam' की 'rajani' आई सज नई-नवेली ,
अच्छे लेखों से ज्ञान की ''rekha''खीची'' ;
सुन्दर 'kavita' से भावों की क्यारी सीचे ;
''harkirat'' की 'kiran ' से भर गया ''amar'' उजाला .

[लिंक में दिए गए नामों पर जाकर महिला चिट्ठाकारों का उत्साहवर्धन करें क्योंकि ये सभी नाम महिला चिट्ठाकारों के हैं]
लेखिका-शिखा कौशिक
सहायिका-शालिनी कौशिक
[जारी.........]

16 comments:

रचना said...

ब्रावो शिखा और शालिनी

G.N.SHAW said...

गुलाब की माला बच गयी..!संयोजन बिलकुल ही काबिले तारीफ...! बहुत - बहुत धन्यवाद ..! महिला दिवस पर दुनिया एवंग बिशेष तौर पर भारतीय महिला वर्ग को बहुत सारी शुभ कामनाये !

mukti said...

वाह !

Udan Tashtari said...

''जय हो ''

manasvinee mukul said...

its really great!Its a real thank and a genuine award to those women who are rocking in the world of blogging.In fact your IDEA is praiseworthy.
manasvinee mukul
http://naarihun.blogspot.com

दिनेशराय द्विवेदी Dineshrai Dwivedi said...

सुंदर संयोजन!

वन्दना said...

अरे वाह महिला दिवस की एक बहुत ही सुन्दर प्रस्तुति है ये तो…………मज़ा आ गया पढकर …………अब अगले भाग का इंतज़ार है…………बेहतरीन्।

pukhraaj said...

In sabhi mahilaaon sahit un sabhi mahilaaon ko HAPPY WOMEN'S DAY jo apne mahila hone par garv karti hain ....

abhishek said...

''जय हो '
mere shabd bhi arpit hain....

संगीता स्वरुप ( गीत ) said...

चर्चा मंच के साप्ताहिक काव्य मंच पर आपकी प्रस्तुति मंगलवार 08-03 - 2011
को ली गयी है ..नीचे दिए लिंक पर कृपया अपनी प्रतिक्रिया दे कर अपने सुझावों से अवगत कराएँ ...शुक्रिया ..

http://charchamanch.uchcharan.com/

शोभना चौरे said...

बहुत ही खूबसूरत फूलो से सजी माला |
आभार

अभिषेक मिश्र said...

वाकई "जय हो".

pratibha said...

इस कविता में अपना नाम देखकर एक सुखद अनुभूति हो रही है आपका हार्दिक धन्यवाद एवं आप सभी को महिला दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं..सादर।

डॉ. पूनम गुप्त said...

बहुत खूब ! शिखा जी और शालिनी जी दोनों को बधाई. और धन्यवाद भी. रचना जी का भी धन्यवाद! सच में जय हो!

pragya said...

अच्छा संयोजन...

RAJAN said...

बहुत अच्छा लिखा हैं शिखा जी ,शालिनी जी.गज़ब का संयोजन.इनमें से मैं तीन को ही जानता हूँ.