सामाजिक कुरीतियाँ और नारी , उसके सम्बन्ध , उसकी मजबूरियां उसका शोषण , इससब विषयों पर कविता

Friday, February 26, 2010

होली है !

होली  की  रंगोली 
------------------------

    बुरा न मानो होली है,
    ये मस्तानों की टोली है,
    रंगों को बौछार करें तो
    गाली भी हंसी ठिठोली है!
             
सतरंगी होली के रंगों से सजे थाल में मेरी हार्दिक शुभकामनाएं आपके नजर हैं.

5 comments:

Arvind Mishra said...

सच्ची ये तो बड़ी रंग बिरंगी होली है -नारी जगत और समस्त नारी संज्ञाओं और सर्वनामों को मेरी रंगारंग शुभकामनाएं !

Amitraghat said...

"happy holi.."
pranav saxena amitraghat.blogspot.com

वन्दना said...

happy holi.

निर्मला कपिला said...

ांअपको भी होली की बहुत बहुत शुभकामनायें

M VERMA said...

होली की शुभकामनाएँ