सामाजिक कुरीतियाँ और नारी , उसके सम्बन्ध , उसकी मजबूरियां उसका शोषण , इससब विषयों पर कविता

Tuesday, February 17, 2009

अब तुलना चाहती हैं नारी

शारीरिक परिभाषाओ से उठ कर
क्षमताओं की परिभाषा मे
अब तुलना चाहती हैं नारी ।




© 2008-09 सर्वाधिकार सुरक्षित!

1 comment:

Nirmla Kapila said...

tulna jaroor kare lekin sakaaratmak tulna ho naki jo buraaiaan purush me hain unki barabaree kare