सामाजिक कुरीतियाँ और नारी , उसके सम्बन्ध , उसकी मजबूरियां उसका शोषण , इससब विषयों पर कविता

Saturday, November 20, 2010

जिजीविषा

© 2008-10 सर्वाधिकार सुरक्षित!

शुष्क तपते रेगिस्तान के
अनंत अपरिमित विस्तार में
ना जाने क्यों मुझे
अब भी कहीं न कहीं
एक नन्हे से नखलिस्तान
के मिल जाने की आस है
जहां स्वर्गिक सौंदर्य से ओत प्रोत
सुरभित सुवासित रंग-बिरंगे
फूलों का एक सुखदायी उद्यान
लहलहा रहा होगा !

सातों महासागरों की अथाह
अपार खारी जलनिधि में
प्यास से चटकते
मेरे चिर तृषित अधरों को
ना जाने क्यों मुझे आज भी
एक मीठे जल की
अमृतधारा के मिल जाने की
जिद्दी सी आस है जो मेरे
प्यास से चटकते होंठों की
प्यास बुझा देगी !

विषैले कटीले तीक्ष्ण
कैक्टसों के विस्तृत वन की
चुभन भरी फिजां में
ना जाने क्यों मुझे
आज भी माँ के
नरम, मुलायम, रेशमी
ममतामय, स्नेहिल, स्निग्ध,
सहलाते से कोमल
स्पर्श की आस है
जो कैक्टसों की खंरोंच से
रक्तरंजित मेरे शरीर को
बेहद प्यार से लपेट लेगा !

सदियों से सूखाग्रस्त घोषित
कठोर चट्टानी बंजर भू भाग में
ना जाने क्यों मुझे
अभी भी चंचल चपल
कल-कल छल-छल बहती
मदमाती इठलाती वेगवान
एक जीवनदायी जलधारा के
उद्भूत होने की आस है
जो उद्दाम प्रवाह के साथ
अपना मार्ग स्वयं विस्तीर्ण करती
निर्बाध नि:शंक अपनी
मंजिल की ओर बहती हो !

लेकिन ना जाने क्यों
वर्षों से तुम्हारी
धारदार, पैनी, कड़वी और
विष बुझी वाणी के
तीखे और असहनीय प्रहारों में
मुझे कभी वह मधुरता और प्यार,
हितचिंता और शुभकामना
दिखाई नहीं देती
जिसके दावे की आड़ में
मैं अब तक इसे सहती आई हूँ
लेकिन कभी महसूस नहीं कर पाई !


साधना वैद

4 comments:

वाणी गीत said...

उम्मीद आशा की किरण दिखाती कविता अंत में उदास कर गयी ...
मुझे एक गीत याद आ रहा है ...
" तुम बेसहारा हो तो किसी का सहारा बनो "..

mridula pradhan said...

bahut achchi lagi.

ALOKITA said...

dil ko chu gayi yah rachna

Vishnukant Mishra said...

aasshhon ke prkhar ugm me
kaun kahan kitna likhta hai...
jeevan ka hr chan jeeney ko
kaun yahaaon kitna marta hai...
jo antas me aata hai kavi to utna likhta hai
" NA JAANEY KYO "
PHIR KAVI KYOKAR LIKHTA HAI..
PHIR KAVI KYOKAR LIKHTA HAI...
AAPKI KAVITA PR YAH KAVYA PRATIKRIYA.. AAPKI KAVITA ACCHI LAGI.