सामाजिक कुरीतियाँ और नारी , उसके सम्बन्ध , उसकी मजबूरियां उसका शोषण , इससब विषयों पर कविता

Thursday, October 21, 2010

तुम्हें बदलना होगा



औरों से अब मत दया की भीख ले 
अपना बनता हक छीनना सीख ले.

अब चुप रहना कायरता मानी जाती है,
क्रोधित स्वर की शक्ति पहचानी जाती है.


शांति और अहिंसा के आयाम हैं बदले,
जीवन-मूल्य भी बदले, उनके नाम भी बदले.


समय के परिवर्तन से तुम्हें बदलना होगा,
छोड़ पुरानी राह नयी पे चलना होगा. 

© 2008-10 सर्वाधिकार सुरक्षित!

5 comments:

anshumala said...

sahi bat kahi achchi kavita

shikha kaushik said...

nari-hrady ki ghutan ko dur karne aur use samaj me dasi se sahgamini ki padvi dilvane ke lie aesi jagruk karne vali kavitaon ki atyant jarurat hai.meri ek kavita ki kuchh panktiya bhi aesi hi chingari ko vyakt karti hai--
komal nahi hai kar mere;
n komal kalayi hain;
dil nahi hai mom ka
prastar ki kadayi hain.

रेखा श्रीवास्तव said...

bahut sahi likha gaya hai, apani raah khud hi khojani hogi aur adhikar lad kar lene honge. maata pita ko bhi samajhana hoga ki ham saksham hain aur unake liye beton se kam nahin hai.

क्षितिजा .... said...

apne mein krantikaari bhav liye hai rachna ... aajkal ki zaroorat hai ...

Sadhana Vaid said...

बहुत सार्थक और सटीक रचना ! अब वाणी और भावों में कोमलता की नहीं कठोरता की ज़रूरत है ! अब नारी का अबला रूप नहीं सबला रूप ही सबको मोहता है और वही वक्त की ज़रूरत है !