सामाजिक कुरीतियाँ और नारी , उसके सम्बन्ध , उसकी मजबूरियां उसका शोषण , इससब विषयों पर कविता

Sunday, May 15, 2011

कब तक मेरे नारीत्व को ही मेरी उपलब्धि माना जायगा ??

देश को आजाद हुए , होगये है वर्ष साठ
पर आज भी जब बात होती है बराबरी कि
तो मुझे आगे कर के कहा जाता है
लो ये पुरूस्कार तुम्हारा है
क्योंकी तुम नारी हो ,
महिला हो , प्रोत्साहन कि अधिकारी हो
देने वाले हम है , आगे तुम्हे बढाने वाले भी हम है
मजमा जब जुडेगा , फक्र से हम कह सकेगे
ये पुरूस्कार तो हमारा था
तुम नारी थी , अबला थी , इसलिये तुम को दिया गया
फिर कुछ समय बाद , हमारी भाषा बदल जायेगी
हम ना सही , कोई हम जैसा ही कहेगा
नारियों को पुरूस्कार मिलता नहीं दिया जाता है
दिमाग मे बस एक ही प्रश्न आता
और
कब तक मेरे किये हुए कामो को मेरी उपलब्धि नहीं माना जाएगा ??
Link
और
कब तक मेरे नारीत्व को ही मेरी उपलब्धि माना जायगा ??



© 2008-13 सर्वाधिकार सुरक्षित!

7 comments:

वन्दना said...

आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
प्रस्तुति भी कल के चर्चा मंच का आकर्षण बनी है
कल (16-5-2011) के चर्चा मंच पर अपनी पोस्ट
देखियेगा और अपने विचारों से चर्चामंच पर आकर
अवगत कराइयेगा और हमारा हौसला बढाइयेगा।

http://charchamanch.blogspot.com/

संगीता स्वरुप ( गीत ) said...

सटीक प्रश्न ... अच्छी प्रस्तुति ...

Sawai Singh Rajpurohit said...

बहुत अच्छी रचना

रेखा श्रीवास्तव said...

बिना काबिलियत के कोई पुरस्कार नहीं देता है, नारी हो या नर अपने कामों के बदौलत ही पुरस्कृत होते हैं.

neelima garg said...

तुम नारी थी , अबला थी , इसलिये तुम दिया गया
very impressive..

Richa P Madhwani said...

http://shayaridays.blogspot.com

Sachin Malhotra said...

बहुत ही बढ़िया.. पढ़ कर अच्छा लगा !
मेरी नयी पोस्ट पर आपका स्वागत है : Blind Devotion - अज्ञान